बात करने का तरीका | बात करना कैसे सीखे

क्या आप भी उन में से है जो दुसरो से नजरे चुराते हो ताकि सामने वाले से आपको बात ना करना पड़ जाए, हमे कुछ समझ ही नहीं आता की बात क्या करे, हम तो आगे होकर किसी से बात नहीं करते, पर जब कोई हमसे बात करने की कोशिश करता है तो उससे भी हम सिर्फ इतना ही बोलते है जितना हमसे उसने पूछा है और वही बात खत्म हो जाती है।

आप जब किसी से बात नहीं करते तो इसका मतलब है की आपमें आत्मविश्वाश की कमी है, पर कई बार लोग आपको बात ना करने के कारण घमंडी समझ लेते है, और जब आपमें आत्मविश्वाश नहीं होता है तो आपके मुँह से कभी कभी ऐसा कुछ निकल जाता है जिसके कारण आपको शर्मिंदा होना पड़ता है, जिससे आपका आत्मविश्वास और कम हो जाता है और आप बात करना कम कर देते हो।

जब भी हमारे यहाँ पारिवारिक उत्सव होता है, तो चार लोग बैठकर बाते करते है और जो कम बोलते है वह सिर्फ सुनते रहते है, अगर आप भी यही करते है तो आपको खुद को चेंज करने की जरुरत है, आपको अपने आत्मविश्वाश को बढ़ाने की जरुरत है, कुछ लोग होते है जो किसी अनजान से भी बहुत आसानी से बात कर लेते है, और कुछ ऐसे होते है जान पहचान वालो से भी बात करने में डरते है।

बात करने का तरीका

बात करने का तरीका ना होने के कारन होने वाले नुकसान

दोस्तों आपने देखा होगा जो बात करने में बहुत स्मार्ट होते है, उनके चाहने वाले बहुत होते है, और हर जगह वह अपनी जादुई बातो से लोगो का दिल जित लेते है, वहीं जो कम बोलते है उन्हें इस कारन बहुत से नुकसान भी होते है, तो आइये जानते है बात करने का तरीका ना होने के कारन होने वाले नुकसान।

  1. आप जहा भी होते है बात ना करने के कारण वहा अलग थलग पड़ जाते हो।
  2. बात करने का तरीका ना होने के कारण आप नौकरी या व्यवसाय में उतनी तरक्की नहीं कर पाते, यदि आप एक व्यापारी या दुकानदार है तो आपकी तरक्की बहुत ज्यादा आपके बात करने के तरीके पर निर्भर है।
  3. बात ना करने के कारण आपकी तरफ कोई भी आकर्षित नहीं होता।
  4. आप किसी को ज्यादा याद नहीं रहते।
  5. कई बार लोग आपको घमंडी समझ लेते है।
  6. आपको कोई अच्छे से जान ही नहीं पाता चाहे आप कितने भी होशियार हो।
  7. आपकी गिनती सीधे और भोले भाले लोगो में हो सकती है।
  8. आप किसी रिश्तेदार के यहाँ भी जाते हो तो वो सिर्फ औपचारिकता ही रह जाती है क्योंकि सामने वाला आपके इस व्यवहार के कारण आपसे बात ही नहीं कर पाता
  9. यदि आप कही जॉब करते हो तो आप कभी भी टीम लीडर नहीं बन सकते।
  10. बात ना करने के कारण आपमें हमेशा आत्मविश्वाश की कमी रहती है।

बात करने का तरीका | बात करना कैसे सीखे

दोस्तों अगर आप चाहते हो, सब आपको याद रखे आप भी बातो से सबका दिल जीत सके तो हम आपके साथ शेयर कर रहे कुछ ऐसी बाते जिसे पढ़कर आप किसी से भी बात करने में मदद मिलेगी तो आइये जाने बात करने का तरीका

1. अपनी इस कमी को स्वीकार करे

दोस्तों आप बात करने में उतने एक्सपर्ट नहीं हो यदि कही पर सब ग्रुप में बात कर रहे है और आप वहा चुप रहते हो या आपकी बाते लोगो पर उतना प्रभाव नहीं डालती है तो आपको अपनी इस कमी को स्वीकार करना चाहीये, हम कमी को स्वीकार करने की बात इसलिए कह रहे है क्योंकि कुछ व्यक्ति ऐसे होते है जो अपनी इस कमी से दूर भागते है और वह यह स्वीकार करते अपनी कमी को छुपाने के लिए वो बहाने बनाते है जैसे – “में किसी से फालतू बात नहीं करता, सिर्फ काम की ही बात करता हु, में ऐसा ही हु” पर दोस्तों ऐसा कहने से आपकी कमी दूर नहीं हो जाएगी आप बात करने वालो से हमेशा पीछे रहोगे।

2. बात करने के लिए हमेशा तैयार रहे

हमे खुद को किसी से भी बात करने के लिए तैयार रखना चाहिए, होता यह है की हम किसी से भी बात करने के लिए तैयार नहीं रहते, और जब कोई अचानक हमसे बात करना शुरू करता है जिसके लिए हम बिलकुल भी तैयार नही थे तो हम सिर्फ हम सिर्फ उनकी बातो का जवाब देके आगे निकल जाते है, और हम बदले में उनसे कुछ भी नहीं पूछते क्योंकि हम तैयार ही नहीं थे बात करने के लिए, इसलिए हमे बात करने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए ताकि जब भी कोई हमसे बात करे तो हम उस बात को आगे बढ़ाने के लिए तैयार रहे।

3. सवाल जवाब करे

किसी से बात करने के लिए सबसे अच्छा जो तरीका माना जाता है वो है सवाल जवाब करना मतलब कुछ सामने वाले से उसके बारे में पूछो और कुछ अपने बारे में बताओ इस तरह बाते होना शुरू हो जाएगी, पर साथ ही यह भी ध्यान रखे की आप अपने बारे में भी कुछ बताते जाए सिर्फ एक के बाद एक सवाल ही ना करते जाये सामने वाले को ऐसा ना लगे की आप उसका इंटरव्यू ले रहो हो।

4. आत्मविश्वाश के साथ उचा बोले

आप जिससे भी बात कर रहे हो आत्मविश्वाश के साथ बात करे कभी कभी हम सामने वाले से बात तो करते है, पर बहुत धीरे बोलते है और आत्मविश्वाश के साथ नहीं बोल पाते यदि आप ऐसा करते हो तो कोई भी आपसे बात करने में रूचि नहीं लेगा, इसलिए आप जब भी किसी से बात करे तो पुरे आत्मविश्वाश के साथ इतना स्पष्ट बोले की सामने वाले को आपकी बात सुनाई दे, उचा बोलने से हमारा मतलब यह नहीं की आप बहुत जोर से बोले बल्कि इतना धीमा नहीं बोले की सामने वाला आपकी बात ही ना सुन पाए।

5. किसी को भी इतना बड़ा ना समझे की आप उनसे बात ना कर पाओ

कुछ व्यक्ति ऐसे हो सकते है जो अपनी लाइफ में बहुत सक्सेसफुल होते है, और ओहदे में हमसे काफी बड़े रहते है, तो ऐसे लोगो को हम भगवान समझ लेते है, और उनके सामने हमारी बोलती बंद हो जाती है, ये वाकई में बड़े लोग है आप इनकी इज्जत करे इनका आदर करे पर इनको भगवान ना माने ऐसा ना सोचे की आप इनसे बात ही नहीं कर सकते, आपको लगता हे उनको सभी विषय पर आपसे ज्यादा ज्ञान होगा पर ऐसा नही है हो सकता है आपको सुनना उन्हें अच्छा लगे, और जब आप उनसे बात करते है तो आपका आत्मविश्वाश बढ़ जाता है, फिर आप किसी से भी बात करने में हिचकिचाते नहीं है

चतुर चालाक कैसे बने

Conclusion – बात करने का तरीका

दोस्तों अगर आप भी बात करने में उतने एक्सपर्ट नहीं हो तो आपको कोशिश करना चाहिए बात करने की जो हमे आपको तरीके बताये है आप वो करके देखे तो आपका आत्मविश्वाश बढ़ जायेगा और आप भी बात करने में एक्सपर्ट हो जाओगे। आपको हमारा ये आर्टिकल “बात करने के तरीके ” कैसा लगा हमे कमेंट करके जरूर बताइये और आपको लगता है की इस आर्टिकल को आप किसी के साथ शेयर कर सकते है तो शेयर भी कीजिये धन्यवाद

1 thought on “बात करने का तरीका | बात करना कैसे सीखे”

Leave a Comment