Advertisements

प्यार की परिभाषा क्या है – कैसे जाने कि आप प्यार में है ?

Advertisements

नमस्कार दोस्तों आज हम आपके साथ share करने जा रहे है एक ऐसा topic जो कि आपके दिल से बहुत ही करीबी के साथ में जुड़ा हुआ है वह है “प्यार की परिभाषा “दोस्तों जो इंसान प्यार में होता है या प्यार को महसूस कर रहा होता है उसके अंदर यह सवाल कभी ना कभी जरूर आता है कि प्यार की असल में परिभाषा क्या होती है ?

जब भी प्यार की परिभाषा की बात आती है तो हम कहे तो इसकी असल में कोई एक परिभाषा नहीं होती है जिसको कि हम कह सकते हैं कि ये ही प्यार की परिभाषा है, बहुत से लोग हुए हैं जिन्होंने प्यार को अलग-अलग तरह से परिभाषित किया है लेकिन अगर इसको हम देखें तो प्यार को परिभाषित नहीं किया जा सकता है इसको सिर्फ दिल के साथ में महसूस किया जा सकता है।

कुछ लोगों का कहना होता है कि प्यार की कोई भी परिभाषा नहीं होती है लेकिन इस दुनिया में ऐसी कोई भी चीज नहीं है जिसको की परिभाषित नहीं किया जा सकता है तो आज इस लेख के माध्यम से हम प्यार की परिभाषा को जानने की कोशिश करेंगे, तो चलिए शुरू करते हैं

प्यार की परिभाषा क्या है

प्यार की परिभाषा क्या होती है ?

प्यार की असल में कोई परिभाषा नहीं होती है क्योंकि प्यार दो दिलों का मेल होता है जो किसी इंसान के साथ में हो तो जाता है लेकिन प्यार आसानी के साथ में खत्म नहीं होता है।

प्यार इस दुनिया का सबसे खूबसूरत एहसास होता है अगर उस प्यार में कोई मतलब नहीं होता है तो वह प्यार सबसे खूबसूरत होता है, एक इंसान को जीवित रहने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत होती है उसी प्रकार इंसान को जीने के लिए प्यार की भी जरूरत होती है।

प्यार जो होता है वह दिल की धड़कन होता है और इसकी शुरुआत भी दिल से ही होती है और वह हमारे दिमाग तक जाती है जिसकी वजह से हमको कुछ एहसास होने लगते हैं।

प्यार दिलों का एक ऐसा बंधन होता है तो दो दिलों को आपस में हमेशा के लिए जोड़ देता है प्यार को सिर्फ वही इंसान महसूस कर सकता है जिसने असल में किसी इंसान से प्यार किया है।

प्यार का कभी भी कोई दायरा नहीं होता है प्यार किसी इंसान की रंग-रूप को नहीं देखता है प्यार कभी भी अमीरी या फिर गरीबी को नहीं देखता है प्यार इन सभी चीजों से दूर होता है प्यार तो बस प्यार होता है।

प्यार जो होता है वह इंसान को और अधिक जिम्मेदार बनाता है जब किसी इंसान से प्यार होता है तो वह इंसान के जीवन में खुशी को लेकर आता है।

एक इंसान अपने जीवन में चाहे कितनी भी दौलत और शोहरत का मन नहीं लेकिन प्यार के आगे सभी चीजें बहुत ही छोटी लगती है, प्यार से बढ़कर इस दुनिया में और कुछ भी नहीं होता है।

प्यार का असल में क्या मतलब होता है ?

जब आप किसी इंसान के साथ में एक रिलेशन में होते हैं और आप उसके साथ पूरी तरह से जुड़ जाते हैं और उसके बाद आप और वह कभी भी अलग हो ही नहीं सकते हैं तो असल में वह सच्चा प्यार होता है लेकिन होता क्या है कि हम किसी इंसान के साथ में फिजिकली रूप से होते हैं तो हम वहां पर प्यार को ढूंढ रहे होते लेकिन असल में वहां पर प्यार नहीं होता है,

हम यह सोचते हैं कि फिजिकली रूप से किसी के साथ जुड़ना ही प्यार होता है और हमको उस इंसान के साथ में कुछ अच्छा अनुभव हो जाता है तो फिर हम उसको प्यार समझने लगते है।

अगर आप किसी के साथ में माइंड लेवल पर बॉडी की लेवल जुड़ने की कोशिश करते हैं वहां पर तो सिर्फ और सिर्फ लड़ाई झगड़े होते हैं अगर आप किसी इंसान के साथ में दिल से जुड़ते है तो असल में प्यार में होते है।

 अगर आप सामने वाले इंसान को खुद से अलग समझते हैं तो वह प्यार नहीं होता है लेकिन अगर आप सामने वाले इंसान को खुद ही समझते हैं और यह सोचते हैं कि वह मुझसे अलग नहीं है तो आपस में प्यार के मतलब को जानते हैं।

अगर आप प्यार में है तो कैसे जाने ?

जब आप किसी इंसान के साथ में प्यार में होते हैं और आप उसकी परिभाषा के अंदर आ जाते हैं और वह आपकी परिभाषा के अंदर आ जाते हैं तो फिर आप समझ सकते हैं कि आप प्यार में है।

आप जिस भी इंसान से प्यार करते हैं उस इंसान को अगर आप खुश रखने की पूरी कोशिश करते हैं तो आप कह सकते हैं कि आप प्यार मे होते है .

अगर आप खुद के लिए प्यार नहीं करते लेकिन सामने वाले के लिए प्यार करते हैं तो कह सकते हैं कि आप प्यार में है .

आपकी हर चीज सामने वाले इंसान के सामने अगर छोटी लगने लग जाए तो आप समझ सकते हैं कि आप प्यार में है .

अगर सामने वाले इंसान के साथ में पूरी तरह से खुश है तो आप प्यार में होते है।

प्यार क्या है ?

प्यार को शब्दों में बयान करना बहुत ही मुश्किल होता है क्योंकि प्यार है इंसान के जीवन का आधार होता है अगर हम प्यार की बात करें तो प्यार केवल पति पत्नी या प्रेमी और प्रेमिका का ही नहीं होता है इस दुनिया में हर इंसान को प्यार की जरूरत होती है फिर चाहे आपके मां-बाप हो, भाई-बहन हो या आपके कोई दोस्त हो या आपके रिलेटिव हो क्योंकि जिस इंसान के जीवन में प्यार नहीं होता है उस इंसान का जीवन बहुत ही कठिन और मुश्किलों से भरा हुआ होता है।

उस इंसान के जीवन में आपको परेशानी नजर आएगी उनके जीवन में प्रेम या प्यार के न होने से जीवन में जो खुशियां होती है वह खत्म हो जाती है इस दुनिया में प्रेम के महत्व को वह इंसान समझ सकता है जिसने कभी किसी से प्रेम किया हो।

अगर हम अपने आसपास पेड़ पौधों को भी देखें तो उनकी अंदर भी प्रेम होता है प्रकृति की हर एक चीज में प्यार होता है इसलिए इस दुनिया में सबसे बढ़कर प्यार को ही बताया गया है।

प्यार से आप पूरी दुनिया को जीत सकते हैं पूरी दुनिया के ऊपर राज कर सकते हैं प्यार से आप किसी भी इंसान को राजी कर सकते हैं अगर आपके अंदर प्यार बांटने की कला है तो आप इस दुनिया के सबसे सफल इंसान है।

दोस्तों, आज के इस लेख के अंदर हमने आपके साथ में बांटा है कि ” प्यार की परिभाषा”  क्या होती है और प्यार का सही मतलब क्या होता है आशा करते हैं कि इस लेख से आपको जरूर कुछ ना कुछ सीखने को मिला होगा, अगर इस लेख से आपको कुछ सीखने को मिला है और यह लेख आपको पसंद आया है तो इसको अपने दोस्तों के साथ में जरूर शेयर करें और अगर आप हमसे कोई भी टॉपिक पर लिखवाना चाहते हैं और चाहते हैं कि हम उसके ऊपर लिखे तो हमको कमेंट करके उस टॉपिक के बारे में जरूर बताएं धन्यवाद

FAQ

सच्चे प्यार की परिभाषा क्या होती है?

सच्चा प्यार वह हे जो हर समय आपके साथ हो चाहे आपका वक़्त बुरा या अच्छा, आपके हालात बुरे होने पर जब सब आपसे दूर जाने लगे तब भी वह आपके पास हो, आपका परिस्थति के अनुसार ना बदले वह हर परिस्थति में आपके साथ हो वही सच्चा प्यार है।

शास्त्रों के अनुसार प्रेम क्या है?

शास्त्रों के अनुसार प्रेम में कोई छल नही है, जब कोई आपको किसी भी दर्ष्टि से अच्छा लगे तो आप उससे प्रेम करने लगते है, पर आप उसे देखने,पाने या भोगने की इच्छा नहीं रखते हे तो वही ही प्रेम है जहा आप उससे बदले में कुछ नही चाहते बस आप उसे चाहते है बिना किसी मतलब के वही प्रेम है।

Leave a Comment

सच्चे प्यार और झूठे प्यार में अंतर – जानकारी Twitter Se Paise Kaise Kamaye – टि्वटर से पैसे कैसे कमाए Internet se Paisa Kaise kamaye – जानिए कुछ बेहतरीन तरीके अच्छा बोलना कैसे सीखें | Speaking tips in Hindi विद्यार्थी घर बैठे पैसे कैसे कमाए -8 तरीके