समाज में बोलने का तरीका | समाज में बोलचाल कैसे करे

समाज में बोलने का तरीका – समाज में हमे अक्सर मिलना पड़ता है, किसी का शादी ब्याह हो या कोई फंक्शन या समाज का ही कोई प्रोग्राम हमे आना जाना पड़ता है, पर कुछ लोग ऐसे होते है जो कम बोलते है, या उन्हें बात करना नही आती की बात किस तरह की जाए, उन लोगो के साथ ज्यादा प्रॉब्लम होती है, एक तो वो सबके बिच में बैठकर भी अनजान बने रहते है, और दूसरा ऐसी जगह ये लोग अक्सर बोर हो जाते है, क्योंकि ये किसी से बात नही करते तो इन्हे बोर होना पड़ता है।

ये लोग सिर्फ हाल चल पूछने की औपचारिकता के आगे नही बढ़ पाते, और हाल चाल ये तब बताते है, जब इनसे कोई पूछता है, ये तो आगे होकर किसी से बात करने की हिम्मत भी नही करते।

जिन लोगो में बात करने का विश्वाश होता है, जिन्हे बात करने का तरीका आता है, उनके लिए ऐसी जगह, जहां समाज के लोग आये हो वो जगह जन्नत हो जाती है, क्योंकि ऐसी जगह वो बात करके अपना समय भी काट लेते है, और कुछ नई जान पहचान भी बना लेते है।

हर व्यक्ति चाहता है, की वह भी समाज में सबके बिच में बोल सके अच्छे से बात कर सके, पर उनके स्वाभाव जो की थोड़ा शर्मीला होता है, या उन्हें सबके बिच में बोलने की आदत नही होती, जिस कारण वो यह नही कर पाते।

अगर आप भी सोच रहे हो की आपको समाज में बात करना शुरू करना चाहिए, आप जानना चाहते हो वो क्या तरीके है तो हम आपको आज इस आर्टिकल में यही बताने वाले है, तो आइये शुरू करते है आज का हमारा आर्टिकल “समाज में बोलने का तरीका

समाज में बोलने का तरीका

समाज में बोलने का तरीका

1. बातो को खत्म ना होने दे

हम अक्सर जब समाज में किसी से मिलते है, तो हम औपचारिक बात होने के बाद बातो को खत्म कर देते है, जैसे कैसे हो कब आये ये बहुत ही सामान्य सवाल जवाब है जिसके बाद बात खत्म हो जाती है, पर यही पर आपको बात आगे बढ़ाना चाहिए, जैसे इसके आगे आप पूछ सकते है, घर पर सब कैसे है, गुड़िया कोनसी क्लास में है, यदि आप और वो अलग सिटी में रहते है तो उन्हें घर आने के लिए कहिये, जब आप बाते करने का सोचोगे तो कही ना कही कुछ ऐसा टॉपिक जरूर निकल जायेगा जो बात को बड़ा देगा, और आपकी बात चित लम्बी हो जाएगी।

बातो को खत्म ना होने दे का मतलब यह नही है की सामने वाला जल्दी में हो या आपसे बात ना करना चाहता हो तो भी आप उनसे बात करते जाए, यह भी ध्यान जरूर रखे की सामने वाला भी आपसे बात करने में रूचि रखे तभी यह करे वरना नही।

2. बोलने की शुरुवात करे

अगर आप चाहते हो समाज में सबके सामने आप बात कर सके, पर अभी आप कम बोलते है तो बोलना शुरू कीजिये और बोलने के लिए किसी खास मोके का इन्तजार मत कीजिये बस बोलना शुरू कीजिये आप जिससे भी मिल रहे है, उनसे पहले से थोड़ा ज्यादा बात करने लगे, अगर आप अपने घर में भी ज्यादा बात नही करते है तो, घर से ही शुरुवात कीजिये, घर के सदस्यों से भी किसी ना किसी विषय पर बात करे, आप जो भी काम करते है बिज़नेस या जॉब वहा भी सबसे बात करना शुरू करे।

जब आप बात करने की आदत बना लोगे तो, आप किसी से कभी भी बात करने लग जाओगे, बात करने के तरीके तभी काम आएंगे जब आप बात करते हो, अगर आप बात ही नहीं करते हो, तो आप तरीके सिख के करोगे भी क्या।

3. बॉडी लैंग्वेज में चेंज लाये

आपने यह बात नोट नही की होगी, पर आपकी बॉडी लैंग्वेज से भी पता पड़ता है, की आप किसी से बात करना चाहते हो या नही, अगर आप किसी से बात नहीं करते हो, और बात करना चाहते भी नही हो तो आपकी बॉडी लैंग्वेज थोड़ी अलग होती है, वही कुछ लोगो की बॉडी लैंग्वेज ऐसी होती है जिन्हे देखकर सब उनसे बात करते है, हम आपको बताते है की कैसे पता चलता है कोई बात करना चाहता है या नहीं।

जब आप चलते समय इधर उधर देखते हो और हाथो को थोड़ा ज्यादा आगे पीछे करते हो, मतलब आप चाहते हो लोग आपके पास आये आपसे बाते करे, और जब आप सिर्फ सामने देखते हो और बहुत सधे हुए धीरे धीरे आगे बढ़ते हो मतलब आप अपने आप में खोये हो आप नही चाहते की कोई आपसे बात करे, यह परिवर्तन आप खुद में भी देख सकते हो, इसलिये हमेशा थोड़ा खुलकर चले जिससे सामने वाला आपसे बात करने के लिए तैयार रहे।

इसी तरह जिन्हे बात करनी होती है वो सामने वाले से नजारे मिलकर बात करता है, और जो बात ख़त्म करना चाहता है, वो बात करते समय इधर उधर देखता है, और उसकी बॉडी की दिशा भी थोड़ी घूमने लगती है, ये आपको जानना इसलिए जरुरी है की अगर आप चाहते हो कोई आपसे बात करे और आप भी चाहते है किसी से लम्बी बात करना, तो अपनी बॉडी लैंग्वेज पर ध्यान दे।

4. बातो में उतर चढ़ाव लाये

बात करते समय आपको शब्दों के साथ खेलना आना चाहिए और साथ ही, उसके साथ आपको अपनी बातो को कहने का तरीका आना चाहिए, जैसे कहते कहते कहा रुकना है, कहा जल्दी बोलना हे यही होता है बातो में उतर चढ़ाव, जैसे आप कोई मूवी देखते हो तो उसमे जब कोई डायलॉग आता है तो उससे पहले कुछ देर शांति छा जाती है, इस तरह आप अपने बातो में थोड़ा उतर चढ़ाव लाकर उसे इंट्रेस्टिंग बना सकते हो।

यदि आप कोई कहानी सुना रहे है, और उसे एक ही सांस में फटाफट बोलकर ख़त्म कर दोगे तो आपकी वो कहानी चाहे जितनी भी अच्छी हो किसी को पसंद नहीं आएगी, वही एक नार्मल कहानी को आप बहुत अच्छे तरीके से सुनाओगे तो सामने वाला उसे भी ध्यान से सुनेगा।

जैसे – आप किसी को कह रहे हो “हम घाटी से निचे उतरे और हमने उतरते से ही देखा की सामने,,,,,,,” आप यह पर थोड़ा रुक गए तो जो भी आपकी बात सुन रहा वो ध्यान लगाएगा की आगे क्या हुआ इस तरह आप अपनीं बात को इंट्रेस्टिंग बना सकते हो।

5. बातो में किस्से शामिल करे

आप जब किसी महफ़िल में बैठे हो, और वहा आप बात कर रहे हो तो ऐसी जगह जिनके पास कोई किस्सा होता है, उनकी बाते सब सुन्ना चाहते है, हर किसी की लाइफ में ऐसे किस्से होते है, और उनमे से कुछ लोग होते है जो मोके के हिसाब से उन किस्सों को बहुत ही अच्छे से सुनाते है, ऐसे लोग महफिले में सबका ध्यान अपनी तरफ खींच लेते है, आप यदि बातो में बहुत अच्छे होना चाहते है, तो ऐसे कुछ किस्से आपके पास भी होना चाहिए, जो जीवन की वास्तविक घटना होती है, वो घटना आपकी हो सकती है या आपके दोस्तों में किसी की, ये किस्से अक्सर उन महफ़िलो में सुनाये जाते है, जहा थोड़े फुर्सत में सब बैठते है, और ये किस्से ऐसे होते है की आप बहुत जल्दी सबकी निगाह में आ जाते है और सबको आपको लम्बे समय तक याद रखते है।

किसी भी लड़की से कैसे बात करे ? जानिए 10 जबरदस्त तरीके

Conclusion – समाज में बोलने का तरीका

हमने आपको ऐसे तरीके बताये है जो दूसरे आर्टिकल में नहीं है, और भी कुछ तरीके है पर वो तरीके आपको बहुत जगह मिल जायेंगे इसलिए हमने यहाँ शामिल नहीं किये है, हमने जो तरीके बताये वो बहुत ही हेल्प करेंगे आपको समाज के बिच बात चित करने में, हमे कमेंट करके जरूर बताएगा की आपको हमारा ये आर्टिकल “समाज में बोलने का तरीका” कैसा लगा और आपको लगता है इसे किसी के साथ शेयर किया जा सकता है तो शेयर भी जरूर कीजियेगा धन्यवाद

Leave a Comment