Advertisements

Courier kaise karte hai – जानिए कूरियर कैसे करते है

Advertisements

courier kaise karte hai – आज के जमाने में Courier हमारी रोजमर्रा की जरूरत का हिस्सा बन चुकी है जिसकी जरूरत हर किसी को पड़ती ही है। फिर चाहें हमें रक्षा बंधन में राखी भेजना हो या फिर कोई कीमती सामान ही भेजना हो । आपने भी कभी न कभी फ्लिपकार्ट , अमेजन , टाटा न्यू आदि ऐप्प से कोई न कोई सामान  मंगवाया ही होगा जो कि आप तक कूरियर के माध्यम से पहुंचाया जाता है।

कोरियर एक ऐसा साधन है जो चीजों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने का काम करती है इसलिये यह जान लेना  बहुत ही जरूरी है कि courier kaise karte hai ताकि आप भी अगर किसी को कूरियर करना चाहते है तो इससे जुड़ी सारी जानकारियां आपको पता हो।

आज आपको अकेले भारत में ही कई अलग अलग कूरियर कंपनियां देखने को मिलती है जो कि एक निर्धारित धनराशि लेकर आपकी वस्तुओं को दूसरे जगह कूरियर करती है। अतः कूरियर करने से पहले यह जरूर जान लें कि  कूरियर कैसे करते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको कोरियर से संबंधित सारी जानकारियां देने वाले है  कि कूरियर क्या है,  कोरियर सर्विस क्या है, कोरियर कंपनी के नाम, courier ki fees kitni hai, कोरियर कैसे करे या कोरियर कैसे किया जाता है, courier ko track kaise kare , कोरियर कितने दिन में आता है तो चलिये विस्तार से जान लेते हैं कि courier karne ka tarika क्या है और कोरियर कैसे भेजते है।

Courier kaise karte hain

कूरियर क्या है ( courier kya hai )

कूरियर एक साधन है जिसका इस्तेमाल करके हमलोग अपनी किसी भी प्रकार की चीजों या डाक्यूमेंट्स/ दस्तावेजों  को एक जगह से दूसरे जगह भेजते है फिर चाहे वो कोई दूसरा शहर हो या फिर दूसरा देश हो । कूरियर सर्विस का इस्तेमाल एक ही शहर के अंदर भी सामानों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक भेजने के लिए भी किया जाता है । आसान शब्दों में चीजों को एक जगह से दूसरे जगह भेजने को हो कूरियर (courier) कहा जाता है।

कूरियर सर्विस क्या है (Courier service kya hai)

आपने जगह जगह कई सारे courier company को देखे होंगे जो कि चीजों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक बहुत ही सुरक्षा के साथ पहुंचाने का काम करती है । यह सर्विस ही कोरियर सेवा क्या है इस सवाल का जवाब है। कोरियर सेवा का लाभ उठाने के लिये आपको कूरियर कंपनी को कुछ चार्ज भी देना पड़ता है जो कि अलग अलग जगहों के हिसाब से भिन्न हो सकती है।

इस कूरियर सर्विस का इस्तेमाल आप एक ही सिटी के अंदर  , एक ही राज्य के अंदर और एक ही देश के अंदर चीजों को कूरियर करने में कर सकते है सिर्फ इतना ही नही आप इस सुविधा का लाभ अपने चीजों को दूसरे शहर ,  दूसरे राज्य या फिर दूसरे देश में कूरियर करने के लिए भी कर सकते है।

कूरियर कंपनी ( Courier company)

भारत के अंदर आपको कई सारी कोरियर कंपनी मिल जाती है जिसका इस्तेमाल आप कूरियर करने के लिए कर सकते है। सिर्फ अपने देश के अंदर ही नही बल्कि बहुत सारी कुरियर कंपनी ऐसी भी है जो कि विदेशों में भी courier पहुंचाने का काम करती है। नीचे हम आपको भारत में पाई जाने वाली ऐसी ही कुछ courier services company के नाम बता रहे है ताकि अगर आपको भी यह जानना है कि हमारे देश में  courier kahan par hai तो आपको कोरियर कंपनी के नाम पता हो।

कूरियर डिलीवरी कंपनी लिस्ट ( Courier delivery companies)

यदि आप कोरियर करना चाहते है तो भारत में courier delivery company  बहुत सारी है जिनमें भारतीय डाक सेवा, Ekart logistics courier company, Ecom express logistics company, Safe express logistics company ,DHL, Blue Dart Express, FedEx Express, First Flight ,Trackon courier service, Delhivery courier service, DTDC आदि है जहाँ से आप कूरियर भेज सकते है।

कूरियर का चार्ज कितना है (Courier charges per kg)

अब बहुत सारे लोगों के मन मे यह सवाल भी जरूर आता है कि अगर कूरियर करना है तो कोरियर चार्ज कितना होता है । हालांकि अलग अलग कंपनियों का Courier charge भी अलग ही रहता है। अगर बात कोरियर सर्विस चार्ज की हो ही रही है तो बहुत लोगों के मन मे यह सवाल भी आता है कि Courier charge for 1 kg कितना होगा ताकि आप अपने सामान के वजन के हिसाब से Courier charge rate का पता खुद ही कर सके।

आगे हम आपको उदाहरण स्वरूप , ऊपर बताई गई कुछ कूरियर कंपनियों के charges के बारे में भी बताएंगे। वैसे अलग अलग courier कंपनियां कूरियर भेजे जाने वाले स्थान , सामान के वजन और  आकर के अनुसार चार्ज करती है।

कूरियर कंपनीवजनचार्ज
Ekart logistics courier company500 ग्राम27 ₹ – 54 ₹
DTDC30 ग्राम90 ₹ – 500 ₹

कोरियर कैसे करते है ( Courier kaise karte hai)

बहुत सारे लोगों को  कूरियर कैसे करते है कि जानकारी न होने के कारण कई बार उनका पार्सल रिटर्न् भी आ जाता है जिससे उन्हें काफी परेशानी भी हो जाती है इसलिए यह जानना भी जरूरी है कि अगर आपको किसी को कूरियर भेजना है तो कूरियर भेजने का तरीका क्या होता है तो चलिए यह भी जान लेते है कि कूरियर कैसे करते है 

  • ठीक से पैकिंग करें: सबसे पहले आप जिस भी चीज को कूरियर करना चाहते है उसे अच्छे से पैक कर लें ताकि रास्ते में किसी भी कारण से आपका courier बॉक्स खुले या फटे न । बड़े – छोटे सामानों की पैकिंग के लिए आप कार्टन की मदद भी ले सकते है। कार्टून के बड़े बड़े बॉक्स का इस्तेमाल भी आप पैकिंग के लिये कर सकते है। आप बॉक्स को किसी भी टेप की मदद से अच्छे तरीके से बंद भी कर लें ताकि आपका कूरियर उसी अवस्था में सामने वाले को मिले जैसा कि आप भेजना चाहते हैं। इसके अलावा आप पत्र या डाक्यूमेंट्स courier करना चाहते है तो उसे भी envelope में अच्छी तरह पैक करे और फिर उसे अच्छे से चिपका भी दें।
  • भेजने वाले का पता: कई बार लोग कूरियर भेजते समय छोटी छोटी गलतियां कर देते है या उन्हें  courier kaise kiya jata  hai पता नही होने के कारण उनका कोरियर वापस भी आ जाता है इसलिए बॉक्स की पैकिंग करने के बाद उस पर अपना पता यानी भेजने वाले का पता जरूर लिखें ताकि अगर आगे किसी प्रकार की दिक्कत आये भी तो कूरियर कंपनी आपसे संपर्क कर सके, इसलिए आपके लिये यह जानना जरूरी हो जाता है कि कूरियर का एड्रेस कैसे लिखे । जिस बॉक्स या envelope को आप courier में भेज रहे है उस पर सफेद कागज चिपका कर उसमें आप अपना पता ” From ”   में जरूर लिखें और वो भी पूरा पता जिसमें आपका पता, पिन कोड , लैंडमार्क और मोबाइल नंबर इत्यदि जरूर हो। 
  • जिसे भेजना है उसका पता: कोरियर करने के लिए यह सबसे ज्यादा जरूरी होता है कि आप जिसे भी कूरियर भेजना चाहते है “To” में उसका पूरा पता यानी लैंडमार्क , पिन कोड के साथ  कांटेक्ट नंबर भी जरूर लिखें ताकि आपका कूरियर सही से दिये गये पते पर पहुंच जाए । कई बार आधे अधूरे पते के वजह से भी courier वापस चला आता है या पता ढूंढने में परेशानी भी हो जाती है। यदि आप सही से पता लिखेंगे तो आपका कोरियर समय पर पहुंच जाएगा। अतः  courier  adress kaise likhe इस पर ध्यान देना भी बहुत जरूरी होता है। courier भेजने के लिए सही पता देना बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होता है।
  • वजन: बहुत सारे लोगों को यह बात ठीक से पता नही होती है कि courier kaise karte hai तो आपको बता दें कि कूरियर करने के लिए वजन भी चेक करना पड़ता है। कोरियर करने से पहले यह जरूर जान लें कि कूरियर कितने वजन तक भेज सकते है। अगर आप अपने देश से बाहर कूरियर करना चाहते है तो आपको बता दें कि अधिकतर courier कंपनियां 30 किलो ग्राम के वजन तक ही पार्सल स्वीकार करती है। वही अगर बात देश के अंदर की करें तो कूरियर के वजन को लेकर कोई विशेष सीमा निर्धारित नही है।
  • डॉकेट नंबर या स्लिप: parcle kaise bheje इस बारे में जानकारी प्राप्त करने में यह भी जरूरी होता है कि आप चाहे जिस भी कोरियर कंपनी से courier कर रहे हो , अपने पार्सल को देने के बाद उस कंपनी से docket number या स्लिप जरूर लें । यह हर courier company से दी जाती है ताकि आगे जाकर आप अपने कूरियर को ट्रैक कर पाये या फिर किसी कारणवश अगर आपका कूरियर तय स्थान पर न पहुंचा हो तो इसी डॉकेट नंबर की मदद से आप अपने पार्सल की जानकारी भी ले सकते हैं कि आपका कूरियर कहाँ तक पहुंचा है या फिर किस कारणवश लेट या रिटर्न् आया है। 

कोरियर ट्रैक कैसे करें (Courier ko track kaise kare)

अब तक हमनें यह तो जान लिया कि courier kaise karte hai , इसके बाद अगला सवाल हमारे मन में यही आता है कि   Courier tracking kaise karte hai तो चलिये जान लेते कि कूरियर करने के बाद courier track kaise kare । जैसा कि हमने आपको पहले बताया कि जब भी कूरियर करते हैं तो कूरियर कंपनी आपको एक डॉकेट नंबर देती है जिसका इस्तेमाल करके आप अपने पार्सल को track कर सकते है कि आपका कूरियर अभी कहाँ पहुंचा है ।

हर कूरियर कंपनी की अपनी वेबसाइट होती है जिसमें आपको courier का current status देखने को मिल जाता है।  बस आपको साइट पर जाना है और track your courier  या कूरियर ट्रैक करने का जो भी ऑप्शन दिखेगा वहाँ पर आपको डॉकेट नंबर डालने को कहा जायेगा । जिसे डालने के बाद आप अपने कूरियर का स्टेटस check कर सकते है ।

यहाँ आपको कूरियर से संबंधित सारी जानकारी मिल जाती है जैसे आपका कूरियर कब dispatch हुआ , अभी कहाँ है और कब तक तय स्थान पर पहुँचेगा । इसके अलावा अगर किसी कारणवश आपका पार्सल लेट या cancel हो जाता है तो उसका कारण भी आपको यहाँ पता चल जाता है तो इस तरह आप courier track kaise kare जान सकते है। कूरियर ट्रैक कैसे करे जानने के लिये डॉकेट नंबर या कुछ कंपनियों के द्वारा AWP नंबर भी दी जाती है जिसका इस्तेमाल कर आप अपना कूरियर डिलीवरी ट्रैकिंग कर सकते है। 

कूरियर कितने दिन में आता है (Courier kitne din me aata hai)

जब भी हमलोग कही कूरियर भेजते है तो हमारे मन मे यही शंका लगी रहती है कि कूरियर कितने दिन में पहुंचता है । जैसा कि  हम सभी जानते है प्रत्येक courier company  तय जगह तक कूरियर पहुंचाने के लिये 4 से 5 working days तक का समय तो लेती है हालांकि  कूरियर कंपनियों द्वारा पार्सल  समय से पहले ही पहुंचा भी दिया जाता है। यही कारण है कि कूरियर कंपनी आपको डॉकेट नंबर देती है ताकि आप अपने पार्सल का लोकेशन ट्रैक कर पाएं। 

बहुत सारे लोगों के मन में यह सवाल रहता है कि कूरियर कितने दिन में पहुंचता है तो आपको बता दें , कभी कभी courier कंपनियां पार्सल भेजे जाने जाने वाले स्थान , पार्सल के वजन या आकार के ऊपर भी कूरियर डिलीवरी date तय करती है।

इस तरह आज हमनें आपको Courier kaise karte hai के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है । आज हमनें आपको कूरियर से संबंधित सारी जानकारियां दी है ताकि आप भी अगर कोरियर करना चाहते हैं तो आसानी से समझ पाएं कि कूरियर कैसे करते हैं , उम्मीद है कि आपको हमारा यह आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा।

FAQ

कूरियर करने में कितना पैसा लगता है ?

वैसे तो प्रत्येक कंपनी पार्सल भेजे जाने वाले स्थान, पार्सल के वजन या आकार के ऊपर चार्ज निर्धारित करती है । आमतौर पर courier कंपनियां envelope भेजने का 80 ₹ से 100 ₹ तक भी पैसा लेती है। हर कूरियर कंपनी का चार्ज भी अलग अलग हो सकता है।

स्पीड पोस्ट कितने दिन में पहुंचता है ?

आपको बता दें कि स्पीड पोस्ट भारतीय डाक द्वारा दी जाने वाली पोस्टल सर्विस है जिसे पहुँचने में 1 से 4 दिन तक का समय लग जाता है । इसके अलावा स्थानीय जगहों में स्पीड पोस्ट 1 से 2 दिन में भी पहुंच जाता है। 

पार्सल की अधिकतम लंबाई कितनी हो सकती है ?

किसी भी दिशा में पार्सल की अधिकतम लंबाई 150 सेंटीमीटर से अधिक नही होनी चाहिए। 

अपने कूरियर को ट्रैक कैसे करें ?

चलिये इस सवाल का जवाब हम एक उदाहरण से समझने का प्रयत्न करते हैं ।  मान लेते है कि आपने DTDC से courier किया है तो आप ऑनलाइन इनकी ऑफिशियल  वेबसाइट पर जाकर नीचे बताये गये तरीकों से अपना कूरियर ट्रैक कर सकते है :

सबसे पहले डीटीसी कूरियर की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं या दिये गए लिंक https://www.dtdc.in/tracking/tracking_results.asp पर भी क्लिक कर सकते हैं।

यहाँ आपको ट्रैकिंग का विकल्प मिलेगा , जहाँ पर आपको 9 नंबर वाला AWP  नंबर या consignment नंबर लिखना होता है जो कि आपको कूरियर कंपनी द्वारा दी गई थी।

इसके बाद ट्रैक के ऑप्शन पर क्लिक करके आप अपने कूरियर से संबंधित सारी जानकारियां चेक कर सकते है जैसे कि कूरियर कब बुक हुआ है, कब dispatch हुआ है, फिलहाल आपका कूरियर कहाँ है और कब तय स्थान तक पहुँचेगा ।

क्या देश से बाहर भी courier किया जा सकता है ?

जी हाँ , अपने देश से बाहर भी कोरियर किया जा सकता है और इसके लिए हर courier कंपनी आपसे कुछ चार्ज भी लेती है।

Leave a Comment

सच्चे प्यार और झूठे प्यार में अंतर – जानकारी Twitter Se Paise Kaise Kamaye – टि्वटर से पैसे कैसे कमाए Internet se Paisa Kaise kamaye – जानिए कुछ बेहतरीन तरीके अच्छा बोलना कैसे सीखें | Speaking tips in Hindi विद्यार्थी घर बैठे पैसे कैसे कमाए -8 तरीके