सफल होने के लिए Daily Routine कैसा होना चाहिए | Daily Routine in hindi

दोस्तों आज में आपको छोटी पर बहुत ही महत्वपूर्ण बाते बताने वाला हु, अगर आपने इन बातो को अपनी लाइफ में अपनाया तो यकीनन आप खुद अपनी लाइफ में बहुत बढ़ा फर्क देखोगे, और ये करना इतना ज्यादा मुश्किल भी नही हे, आज हम सिर्फ बात करेंगे हमारे daily routine के बारे में , हमारा daily routine कैसा होना चाहिए। Daily Routine in hindi

आपका daily routine ही ये बताता हे की आप जीवन में कितना सफल होंगे, जब हमारा daily routine बहुत अस्त व्यस्त होता है, हम कोनसा काम कब करेंगे यह तय नही होता है, और कोनसे काम को हमे कितना समय देना है, यह भी तय नही है तो आप कोई भी काम सही तरीके से नही कर पाओगे। Daily Routine in hindi

daily routine in hindi

हमारी रोज की दिनचर्या पर एक प्रेणादायक लेख – Daily Routine in hindi

आपके साथ कभी ऐसा हुआ है, की आप दिनभर बहुत बिजी रहे हो, आपने बहुत काम किया हो और आपके पास जरा सा भी फ्री टाइम नही रहा हो, पर जब आप रात में बिस्तर में गए तो आपको दिनभर काम करने के बाद भी वो संतुष्टि नही थी, इतना काम करने के बाद मन में जो खुशी होना चाहिए वो नही थी, ज्यादातर लोगो के साथ यही होता है की वो काम तो बहुत करते हे, हमेशा बिजी रहते हे, उनके पास किसी से मिलने तक का भी टाइम नही होता फिर भी उतना आउटपुट नही निकलता, तो ऐसा क्यों होता हे, ऐसा होता है बिना किसी प्लानिंग बिना किसी रूटीन के काम करने से

सिर्फ बिजी रहने से सफलता नही मिलती, आपको सही दिशा में बिजी रहना होगा आपका दिन आपको कैसा बिताना हे यह सब पहले से फिक्स होना चाहिए, में इसे आपको एक उदाहरण से समझाता हु, में एक ब्लॉग लिखने बैठा जो की में 2 से 3 घंटे में लिख सकता हु, पर मेने पास में मोबाइल भी रखा, में बार मोबाइल चेक करते रहा, जिससे बार बार मेरा ध्यान टुटा और जो में सोच सोच कर लिख रहा था वो लय भी टूटी तो मुझे आर्टिकल पूरा करने में 6 घंटे लग गए, अब कहने को तो मेने बहुत मेहनत की एक ही जगह बैठा था, 6 घंटे काम भी किया पर किया असल में उसमे 6 घंटे लगने थे नही, जब में मोबाइल को अपने से दूर रखता तो वही ब्लॉग में 2-3 घंटे में लिख सकता था, तो में यही कहना चाहता हु की सिर्फ बिजी रहने से सफलता नही मिलती कहने को तो में 6 घंटे बिजी रहा क्योंकि काम के बिच में जब हम मोबाइल चलाते हे वो टाइम तो हमारे काम के hours में ही काउंट होगा।

सिर्फ मोबाइल ही नही हो ऐसे कई और भी दूसरे कारण हो सकते हे, जो हमारे काम में बाधक बनते हे, और हमे पता भी नही पड़ता, इसलिए आपको दुसरो को बताने के लिए बिजी नही होना है, खुद को ईमानदारी से देखना हे की क्या आपने अपना काम दिनभर में ईमानदारी से किया हे।

दुनिया में सभी के पास रोज के 24 घंटे होते हे, पर कोई इतने समय में बहुत कुछ करके सफल हो जाता हे, और कोई होता हे जो हमेशा time नही हे यही बहाने मारते रहता हे जो खुद को भी धोखा देते हे, और दुसरो को भी अगर आप भी यही करते हो तो खुद से पूछना जरूर की इसमें कितनी सच्चाई है।

कोई भी यह मानने को तैयार नही होता की उनका उठने का या कोई भी काम करने का कोई routine ही नही हे बस यही कहते हे की टाइम नहीं हे, अगर किसी को कहो की सुबह उठकर थोड़ा योगा करना चाहिए, Exercise करना चाहिए तो वह यही कहता हे की नही यार इतना टाइम ही नही रहता रात में सोने में देर हो जाती हे, तो सुबह जल्दी नींद नही खुलती, जबकि हो सकता हे वो रात में 1 घंटा मोबाइल चलाते हो टीवी देखते हो जिस कारन सोने में लेट हो जाते हे सुबह उठकर भी बिस्तर में ही मोबाइल चलाते हो पर कहेंगे यही की टाइम नही हे क्योंकि वो इन सब के इतने आदि हो गए की वो समझ ही नही पाते की उनका अच्छा खासा टाइम वो ऐसी जगह खर्च कर रहे हे जहा से उन्हें कोई फायदा नही मिलने वाला।

हम जो भी काम करते हे उसके बाद हमे एक अहसास होता हे जो अच्छा होता हे या बुरा होता हे, आप जब कभी मोबाइल चलाते हो इंस्टाग्राम पर लगातार वीडियो देखते रहते हो, या कोई और सोशल मीडिया पर लगातार शार्ट वीडियो देखते हो और देखते देखते 2-3 घंटे कब निकल गए पता ही नही पढता, हालांकि वीडियो देखने में बड़ा मजा आ रहा था पर जब आप मोबाइल रखते हो तो आपको अच्छा अहसास नही होता हे आपको यही लगता हे की आपने अपना कीमती समय बर्बाद कर दिया, वही जब आप उसे सही काम में लगाते हो कोई स्किल्स सिखने में या कोई किताब पढ़ने में या पढाई करने में, जब वही 2-3 घंटे आप सही जगह खर्च करते हो तो उसके बाद आप अच्छा महसूस करते हो एक संतुष्टि सी होती हे आपको यह अच्छा बुरा अहसास आपको बहुत बार हुआ होगा।

में सिर्फ इतना कहना चाह रहा हु की आप अपना टाइम जब ख़राब करते हो तो हो सकता है आपको उस समय बहुत मजा आता हो जैसे सोशल मीडिया, वीडियो गेम्स पर बाद में आपको यह अच्छा अहसास नही देता, वही आप अपने समय को सही जगह लगाते हो तब वह करते समय आपको उतना अच्छा ना लगे मन मरना पड़े पर बाद वह बहुत अच्छा अहसास देता हे की हाँ मेने सही जगह अपना टाइम लगाया हे।

कहने का मतलब हे वो काम मत करो जिसे करते समय मजा आये, वो काम करो जिसको करने के बाद अच्छा महसूस हो अगर आप इन दोनों के बिच का फर्क समझ गए तो आपको सफल होने से कोई नही रोक सकता।

अपने daily routine से ऐसे कामो को हटाओ जो बिना मतलब के हे, जहा आप सिर्फ अपना टाइम खराब कर रहे हे, अपना समय सिर्फ उन्ही के लिए लगाओ जहा लगाना चाहिए, जब आप अपना समय नकारात्मक कार्यो में लगाते हो तो आप उसमे धसते चले जाते हो, और आप अपनी जिंदगी बर्बाद कर लेते हो, ऐसे कई उदहारण हे जैसे कई बच्चो ने और कई यंग लोगो ने भी PUB-G गेम खेलना शुरू किया पर उन्हें भी नही पता था की उन्हें इसकी लत लग जाएगी और वो अपनी लत में बर्बाद होने के कगार पर आ जाएंगे यही हे नकारात्मक काम जिसमे हम धसते जाते हे, और जब आप अपना समय सकारात्मक कामो में लगाते हो तो आपको रिजल्ट भी सकारात्मक ही मिलेंगे तो अपने daily routine से ऐसे नकारात्मक कामो को हटा दीजिये जहा आप सिर्फ अपना समय ख़राब कर रहे हे।

अपनी बॉडी और दिमाग को एक समय में एक ही काम में लगाओ, दोस्तों अगर हम कोई काम करने के लिए बैठे हे और हमने तय किया हे की हम इस काम को 4 घंटे देंगे, फिर हम किसी दूसरे काम पर मूव हो जायेंगे, पर उन 4 घंटे में हमारा दिमाग और हमारी बॉडी एक साथ नही हुई तो उन 4 घंटे को हम अच्छे से उपयोग नही कर पाएंगे, जैसे में कर यह काम रहा हु और मेरे दिमाग में चल रही हे अगले काम की प्लानिंग जो में इसके बाद करने वाला हु, तो में अच्छे से काम कर नही सकता, अगर आपको उन 4 घंटे का अच्छे से उपयोग करना हे तो आपका दिमाग और बॉडी दोनों साथ में होना चाहिए और बाकि दूसरा सब कुछ भूल जाइये अपना पूरा ध्यान वही लगाइये तो आप उस समय में बहुत अच्छा परिणाम निकाल पाओगे।

अगर आप अपनी बॉडी और दिमाग को  एक समय में एक काम में लगाओगे तो  2 घंटे में भी बहुत कुछ कर लोगे वरना दिनभर में भी कुछ नही कर पाओगे।

तो दोस्तों जितनी जल्दी हो सके अपने daily routine में सुधार करे और अपनी जिंदगी को एक सही दिशा में ले जाइये, और अगर इस आर्टिकल को पढ़कर आपको लगता हे की आपको अपना daily routine चेंज करना चाहिए तो वो आज और अभी से शुरू कीजिये उसके लिए किसी दिन का इन्जार मत कीजिये, क्योंकि जितनी जल्दी आपने इन बातो को अपना लिया उतनी ही जल्दी आप सफलता को पा लेंगे।

दोस्तो यह थे कुछ विचार मेरे daily routine के बारे में जो हमारी जिंदगी बदल सकते हे, अगर आपको यह आर्टिकल “Daily Routine in hindi” थोड़ा भी उपयोगी लगा हो तो हमे कमेंट करके जरूर बताये, और इसे किसी किस साथ शेयर किया जा सकता है तो शेयर भी जरूर करे।

Leave a Comment